व्यर्थ हुए सब वाद विवाद………. नहीं उर में अपनापन आया हो वसुधा न कुटुम्ब सकी निज शील बचा न सकी लख जाया मानवधर्म न जान…

Read more